Shekhawati University,Sikar

Tuesday, 12 July 2016

Khatushyamji News:Drone Camera Capture Pictures In Khatushyamji Sikar

Khatushyamji News:खाटूधाम में उड़ा ड्रोन कैमरा, इस मकसद से करवाई चप्पे-चप्पे की रिकॉर्डिंग

khatu shyamji news,khatu news,khatu shyam news,sikar news,khatu shyamji, drone camera in khatu, khatu drone news, drone capture pictures in khatushyamji, sikar drone news, encroachment news khatu, encroachment in khatushyam ji

Khatushyamji News /खाटूधाम में मंगलवार को ड्रोन कैमरा नजर आया। आसमान में कम ऊंचाई पर उड़ता यह कैमरा कौतुहल का विषय रहा। कैमरे ने खाटू धाम के प्रमुख मार्गों के चप्पे-चप्पे को कैद किया है। इसके लिए खाटू में दिल्ली से विशेष टीम आई थी। दांतारामगढ़ तहसीलदार सरदार सिंह गिल ने ड्रोन कैमरा ऑपरेटर रोहित कश्यप एवं रवि को साथ लेकर कस्बे के सभी मार्गों का ड्रोन कैमरे से रिकोर्डिंग करवाई।

गौरतलब है कि हाईकोर्ट में खाटूधाम में अतिक्रमणों को तोडऩे का मामला चल रहा है। जिसको लेकर जिला कलक्टर ड्रोन कैमरे से कस्बे के प्रमुख रास्तों की सीडी बनाकर उच्च न्यायालय में पेश कर सकते हैं।

ड्रोन कैमरा टीम ने सबसे पहले गढ़वाली धर्मशाला से मंदिर सहित आसपास के मार्गों, केहरपुरा तिराहे से लामिया तिराहा, श्री श्याम कुण्ड मार्ग,शनि मंदिर चौराहा, खातियान मोहल्ला, नए श्याम कुण्ड मार्ग से लामिया तिराहा एवं राजकीय अस्पताल के पास से लामिया रोड, अस्पताल चौराहा, पुराना बस स्टेण्ड, मुख्य बाजार कबुतरिया चौक, तोरण द्वार आदि मार्गों की रिकॉर्डिंग की।

Monday, 27 June 2016

how to do surya Namaskar mantras to Get Blessings Of Sun

How to do surya Namaskar to Get Blessings Of Sun

यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य अशुभ स्थिति में हो तो रविवार को सूर्य के लिए विशेष उपाय करना चाहिए। रविवार को की गई सूर्य पूजा से व्यक्ति को घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।





Ramcharit Manas gita Teachings

Ramcharit Manas teachings, gita Teachings


गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्रीरामचरित मानस की हर चौपाई मंत्र की तरह है। अलग-अलग इच्छाओं के लिए अलग-अलग चौपाई का जप करने से बहुत जल्दी सकारात्मक फल मिलते हैं। चौपाइयों का जप करने के लिए मंगलवार या शनिवार सर्वश्रेष्ठ दिन माने गए हैं। चौपाई का जप रोज एक सौ आठ बार करना चाहिए। इसके लिए सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि कार्य पूर्ण कर लें। इसके बाद किसी पवित्र और शांत स्थान पर आसन लगाएं। इष्ट देव का ध्यान करने के बाद चौपाई का जप 108 बार करें। ऐसा नियमित रूप से करते रहने पर श्रीराम के साथ ही हनुमानजी भी प्रसन्न होते हैं और हमारी समस्याएं समाप्त होती हैं।
यहां जानिए किस मनोकामना के लिए कौन सी चौपाई का जप करना चाहिए...










Wednesday, 15 June 2016

Nirjala Ekadashi vrat Katha Vidhi in Hindi

Nirjala Ekadashi Vrat Katha-निर्जला एकादशी व्रत कथा

Nirjala Ekadashi vrat katha,story
Nirjala Ekadashi falls in the month of Jyestha in the Shukla paksha (June), therefore it is also called "Jyeshtha Shukla Ekadashi" or "Bhimsani Ekadashi" (Bhim sen, the second Pandava Brother, had observed this difficult fast). Amongst the 24 Ekadashi's observed throughout the year, the fast (Vrat) observed on Jyeshtha Shukla Ekadashi is considered to be the most beneficial, if one properly observes a fast on this day it is said to give the fruits of 24 Ekadashi observed throughout the year. Complete fast is observed on this day with even water not being taken. People observe strict fast and offer pooja to Lord Vishnu to ensure happiness, prosperity and forgiveness of transgressions and sins. On the preceding day that is on the 10th lunar day, Sandhya (evening prayer) is performed and only one meal is taken.
Nirjala Ekadashi vrat Vidhi in Hindi

Nirjala Ekadashi vrat Vidhi in Hindi

साल की सभी एकादशीयों में निर्जला एकादशी बहुत ही महत्त्वपूर्ण मानी जाती है। पद्म पुराण के अनुसार ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहा जाता है। इसे 'पांडव एकादशी' के नाम से भी जाना जाता है। इस व्रत में बिना पानी पिये उपवास किया जाता है।
निर्जला एकादशी व्रत 2016 (Nirjala Ekadashi vrat 2016 in Hindi)
निर्जला एकादशी व्रत साल 2016 में 16 जून, दिन शुक्रवार को रखा जाएगा।
निर्जला एकादशी व्रत विधि (Nirjala Ekadashi vrat Vidhi in Hindi)
निर्जला एकादशी व्रत करने वाले व्यक्ति को एक दिन पहले यानि दशमी के दिन से ही नियमों का पालन करना चाहिए। एकादशी के दिन "ॐ नमो वासुदेवाय" मंत्र का जाप करना चाहिए। निर्जला एकादशी के दिन गोदान का विशेष महत्त्व है। निर्जला एकादशी के दिन दान-पुण्य और गंगा स्नान का विशेष महत्त्व होता है ।
द्वादशी को तुलसी के पत्तों आदि से भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। पूजा- पाठ के बाद ब्राह्मण को भोजन करवाकर दक्षिणा तथा कलश सहित विदा करना चाहिए। अंत में भगवान विष्णु तथा कृष्ण का स्मरण करते हुए स्वयं भोजन ग्रहण करना चाहिए।

निर्जला एकादशी व्रत का महत्त्व (Importance of Nirjala Ekadashi vrat in Hindi)

पद्म पुराण के अनुसार ज्येष्ठ माह की शुक्ल एकादशी को यानि निर्जला एकादशी के दिन व्रत करने से सभी तीर्थों में स्नान के समान पुण्य मिलता है। इस दिन जो व्यक्ति दान करता है वह सभी पापों का नाश करते हुए परमपद प्राप्त करता है। इस दिन अन्न, वस्त्र, जौ, गाय, जल, छाता, जूता आदि का दान देना शुभ माना जाता है।

Friday, 3 June 2016

Chandra Shuddhi / Chandra Bal

Chandra Shuddhi / Chandra Bal

Muhurtha in Indian Vedic Astrology, Electional Astrology, General rules for Muhurtha, Setting a favorable star, Taara bala, favorable sign, Chandra bala, Panchaka rahitha, Panchanga Suddhi, Surya sankramana, Ashtama suddhi, muhurta doshas.


How to know Chandra Bal or Chandra Suddhi 
The consideration of the position of Moon (Chandrama) is of much importance in the Muhurat of any kind. At the time of the Muhurat the  Moon must not be in the sign which is fourth or eighth or twelfth from the person's birth sign or the name sign.
In other words to avoid the failure , the person must not start the new task if  the moon is in the fourth or eighth or twelfth sign from his birth sign or name sign (as the case may be) at the time of starting the new work or purchasing any new vehicles etc.( If you want to know your NAME SIGN )
Example :- If a person whose birth sign or name sign is Taurus (Vrishabh) and he wants to buy a vehicle when Moon is in Sagittarius (Dhanu Rashi) , there is no Chandra bal or Chandrashuddi because on that day Moon falls in Sagittarius which is the eighth from the person's birth sign / name sign (Taurus). So the day is inauspicious for that person because of the absence of Chandra Suddhi and he must avoid purchasing a new vehicle or starting any new task on that day.
The sign or Rashi wise Chandra Shuddhi :- 
(1) If Moon sign is Mesh , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Makar or Kanya or Vrishabh.
(2) If Moon sign is  Vrishabh  , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Kumbh or Tula or Mithun.
(3) If Moon sign is  Mithun  , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Meen  or Vrishchik or Kark.
(4) If Moon sign is  Kark  , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Mesh or Dhanu or Singh.
(5) If Moon sign is Singh , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is  Vrishabh or Makar or Kanya .
(6) If Moon sign is Kanya , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Mithun or Kumbh or Tula.
(7) If Moon sign is Tula , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Kark or Meen or Vrishchik.
(8) If Moon sign is Vrishchik , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Singh or Mesh or Dhanu.
(9) If Moon sign is Dhanu , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Kanya or Vrishabh or Makar.
(10) If Moon sign is Makar , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Tula or Mithun or Kumbh.
(11) If Moon sign is Kumbh , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Vrishchik or Kark  or Meen.
(12) If Moon sign is Meen , it is not favourable for the person whose name sign / birth sign is Dhanu or Singh or Mesh.

Know your Rashi (Name Sign) by name

Know Your Rashi (How to Know Name Sign / Rashi by name)

Know your Rashi/Zodiac Sign (Name Sign) by name

As we all know, zodiac signs/Rashi belong to four elements: Fire: Aries, Leo, Sagittarius. Earth: Taurus, Virgo, Capricorn. Air: Gemini, Libra, Aquarius. Water: Cancer, Scorpio, Pisces.

Discover the meanings of the 12 Zodiac Signs: Aries, Taurus, Gemini, Cancer, Leo, Virgo, Libra, Scorpio, Sagittarius, Capricorn, Aquarius, and Pisces.



While calculating Muhurat for any kind of work or event, like - marriage, construction of a new house, business, purchasing a vehicle etc., some variables or factors are considered. Besides these factors, Chandra Bal or Chandra Shuddhi which is an important factor of muhurat is also considered. To know the Chandra Shuddhi, the Rashi (sign) - (Name sign / Birth sign) of the person concerned (the person who wants to perform the event) must be known.
Here under is given the way or method for knowing the Name Sign /Naam Rashi.

In Vedic Astrology, the first letter of the name of the person is considered as the base for knowing his / her name sign.The detail description related to the twelve signs and the concerned letters, is as follows -
(1) Mesh Rashi (Aries) -
In Mesh Rashi, all the letters formed with 'ल' (La) and the letters अ (A), आ (Aa), अं (An). चु (Chu), चू (Choo), चे (Che), चो (Cho), चौ (Chau) , are included.
Example  -
ल = Laddoo Gopaal, ला = Laadooraam/ Laaduram, ली = Leela, लु =  Lukmaan, ले = Lekharaj, लो =  Lokesh,
अ = Amar, आ = Aasheesh, अं = Angad,
चे = Chetan, चु = Chunnilal
(2) Vrishabh Rashi (Tauras)-
In Vrishabh Rashi, all the letters formed with व (Va) and ब (Ba)  and the letters इ (I), ई (EE), उ (U), ऊ (Oo), ए (E), ऐ (Ai), ओ (O) are included.
Example -
व = Varshaa, वि = Vineet, वी = Veerkumaar, वे = Vedmati, वै = Vaijayanti,
ब = Babeeta, बा = Baalmukund,  बी = Beerbal, बु = Buddharaj,
इ = Indira, उ = Umesh, ए = Ekataa, ओ = Om Prakash
(3) Mithun Rashi (Gemini) - 
In Mithun Rashi all the letters formed with 'क' (Ka), 'घ' (Gha), 'छ' (Chha) and the letters 'ह' (Ha), 'हा' (Haa) and 'हं' (Han) are included.
Example -
क = Kamal, का =Kaanta, कृ = Krishna, कि = Kishan, की =  Keerti, के =Kesar, कै = Kailash, कं  = Kanchan
घ = Ghanshyam, घा = Ghaasilal, घी = Gheesa Lal, घे = Ghevarchand,
छ = Chhatrapal, छी = Cheetarmal,
ह = Harsh, हं = Hansraj, हा = Haafiz
(4) Kark Rashi  (Cancer ) -
In Kark Rashi, all the letters formed with 'ड' (Da) and the letters 'हि'(Hi), 'ही' (Hee), 'हु' (Hu), 'हू' (Hoo), 'हे' (He), 'हो' (Ho) are included.
Example -
'डा' = Darvin, 'डं' = Duncan, 'डि' = Dimple
'हि' = Himanshu, 'ही' = Heena, 'हे' = Hemraj, 'हो' = Honhaar
(5) Singh Rashi  (Leo) -
In Singh Rashi, all the letters formed with 'म'(Ma) and the letters 'ट' (Ta), 'टा' (Taa), 'टं' (Tan), 'टि' (Ti), 'टी' (Tee), 'टु' (Tu), 'टू' (Too), 'टे' (Te), 'टै' (Tai) are included.
Example-
म=Manish, मा = Mamraj, मु = Mukul, मू = Moomal, मे = Meghraj, मं = Mangal, मी = Meena,
टी = Teekam, टे = Tekchand.
(6)Kanya Rashi (Vigro) 
In Kanya Rashi, all the letters formed with 'प' (Pa) ,'ठ' (Tha), 'ष' (Sh),  and the letter टो  (To) are included
Exampels:
प = Parmanand, पा = Paayal, प्रि = Priyanka, प्री = Preeti, पो = Popat, पी = Peeyush ,
ष = Shadaanan,
टो = Todarmal, Topandas
(7) Tula Rashi (Libra)
In Tula Rashi all the letters formed with 'र' (Ra) and the letters 'त' (Ta), 'ता' (Taa), 'ति' (Ti), 'ती' (Tee), 'तु' (Tu), 'तू' (Too), 'ते' (Te), 'त्र' (Tra), त्रि (Tri) are included.
Exampels
र =Ramesh, रा = Raam, रि = Ripudaman, री = Reeta, रो = Rohit, रं = Ranglaal,
त = Tapesh, ता = Taaraachand, ति Tilok,तु = Tuhinaanshu, त्रि = Trilok.
(8). Vrishchik Rashi (Scorpio) -
In Vrsihchik Rashi all the letters formed with 'न' (Na) and the letters 'तो'(To), 'तौ'(Tau),'य'(Ya), 'या'(Yaa),  यं'(Yan), 'यि' (Yi), 'यु' (Yu), 'यू' (Yoo) are included.
Exampels:
न = Naresh, ना = Naank Raam, नि = Niramaa, नी = Neeta, 
तो =Totalal,य = Yashavant,  =Yuvraj.
(9). Dhanu Rashi (Sagittarius) -
In Dhanu Rashi all the lettes formed  with 'ध' (Dha), 'फ'(Pha, Fa), 'ढ'(Dha) and the letters 'ये'(Ye), 'यो'(Yo),'भ' (Bha), 'भं' (Bhan), 'भा'(Bhaa), 'भि'(Bhi),'भी'(Bhee), 'भु'(Bhu), 'भू' (Bhoo), 'भे'(Bhe), 'भै' (Bhai) are included.
Exampels: 
ध = Dharma Chand, धा = Dhaaneshwar, धी = Dheeraj, 
फ = Fareed, फा = Phaalguni, 
यो = Yogesh, 
भ=Bharat, भँ = Bhanwarlal, भु = Bhuvanesh, भू = Bhoopesh, भे = Bheravi,भी = Bheem, भै = Bhairulal.
(10). Makar Rashi (Capricorn) - 
In Makar Rashi all the letters formed with 'ज'(Ja), and 'ख'(kha), and the letters 'भो'(Bho), 'भौ'(Bhau), 'ग'(Ga), 'गा'(Gaa), 'गं'(Gan), 'गि'(Gi), 'गी'(Gee) are included.
Exampels: 
ज=Jagdish, जा = Jaaved, जी = Jeevraj, 
खे = Khemraj, ख़ु =Khushi, 
भो = Bhojraj, 
ग = Ganesh, गा =Gaargee, गं = Ganga, गि =Girdhar, गी =Geeta
(11). Kumbh Rashi (Aquarius) -   
In Kumbh Rashi all the letters formed with 'स'(Sa), 'श'(Sha), 'श्र'(Shra) and the letters 'गु'(Gu),'गू'(Goo), 'गे'(Ge), 'गै'(Gai), 'गो'(Go),'गौ'(Gau), 'द'(Da), 'दा' (Daa), 'दं'(Dan) are included
Examples: 
स =Sateesh, सा = Saadhana, सि = Siyaa Ram, सी =Seeta, स = Sampat, सो = Sohan, 
श=Sharaaphat,शा=Shaanti,शी=Sheetal,श=Shambhu, 
श्र=Sharvan,श्री =Shree Ram, 
गु =Guljaar, गुं=Gunjan, गैं = Gaindalal, गो = Gopal, 
द = Dalveer, दा = Daanveer.
(12) Meen Rashi (Pices) -  
In The Meen Rashi all the letters formed with 'थ'(Tha), 'झ'(Jha) and the letters 'दि'(Di), 'दी'(Dee), 'दु'(Du), 'दू'(Doo), 'दे'(De), 'दै'(Dai), 'दो'(Do), 'दौ'(Dau), 'च'(Cha), 'चं'(Chan), 'चा'(Chaa), 'चि'(Chi), 'ची'(Chee) are included.
Examples: 
था =Thaanmal, 
झ =Jhaveree lal, 
दि = Dinesh, दी = Deendayal, दौ = Daulat, द्रो = Drona, द्रो = Dropadi, 
च=Chaman, चं =Chanchal, चिं =Chintamani, चि =Chitra
Other important things about Rashi -
(1) To know the Rashi the letters of the Hindi alphabet are taken or considered and not the letters of English alphabet because there is a difference between the pronunciation of the letters of the alphabets of these two languages and this difference plays a big role. Because of this difference there may be two Rashis with one letter of English alphabet. But such thing does not occur when the letters of Hindi alphabet are taken for knowing the Rashi. The following example will  make this thing clearly - 
The names 'Daraasingh' and 'Darvin' begin with the same letter 'D' but when we write these names (दारासिंह and डार्विन) using the letters of Hindi alphabet , the first letter of these two names will be 'दा' and 'डा' respectively.
Thus the Rashi of दारा सिंह (Daaraasingh) is  Kumbh whereas the Rashi  of डार्विन (Darvin) is Kark.  
(2) All the letters formed with 'sa'(स) and 'Sha'(श) will have the same Rashi i.e. Kumbh.
Example - 
The Rashi of सं = Sanjay, सु = Susheel, सी = Seeta, श = Shashikaant, शि = Shivaraaj, शी = Sheelaa etc. is Kumbh.
Whereas the Rashi of the names beginning with 'Sh'(ष) is Kanya, e.g. the Rashi of ष = Shadaanan is Kanya.
(3) When the name begins with the joint or combined letters , for knowing the Rashi  of such name , the first letter of them is considered. 
Example - 
The name 'Dropadi' begins with the joint letters 'दो + र'. For knowing the Rashi, the first letter 'दो' will be  considered and thus the Rashi of द्रो = Dropadi is Meen.

Shani Jayanti 2016& Yog In Hindi

Shani Jayanti 2016 & Zodiac sign/Rashi In Hindi

Shani Jayanti 2016 & Zodiac sign/Rashi In Hindi


ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि पर सूर्य एवं छाया के पुत्र शनि का जन्म हुआ था। इस वर्ष यह तिथि रविवार 5 जून को है। शनि का जन्म कृत्तिका नक्षत्र में हुआ था, यह सूर्य के स्वामित्व वाला नक्षत्र है। कृत्तिका के बाद रोहिणी नक्षत्र आता है। जिसके स्वामी चंद्रमा है। सूर्य एवं चंद्रमा जब वृषभ राशि में होते हैं, उस समय शनि जयंती आती है। शनि जयंती के समय शनि हमेशा वक्री रहता है।
तुला, वृश्चिक एवं धनु पर शनि की साढ़ेसाती है। मेष और सिंह पर शनि का ढय्या चल रहा है। इन राशियों के लिए शनि जयंती ज्यादा महत्वपूर्ण है। इन लोगों को विशेष दान एवं गरीबों की सेवा करनी चाहिए। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार शनि जयंती पर राशि अनुसार कौन-कौन सी बातें ध्यान रखें...
मेष-चंद्र द्वितीय है और बुध भी राशि से निकल जाएगा। गुरु की दृष्टि से समय उत्तम रहेगा। अचानक लाभ बढ़ने की आशा है। शनि ढय्या के प्रभाव से विवाद भी बढ़ेंगे एवं अजीब घटनाएं भी हो सकती हैं। आवेश एवं कार्य की अधिकता रहेगी।
क्या करें-शनि जयंती पर किसी गरीब को तेल एवं नमक का दान करें।
वृषभ- उच्च का चंद्र राशि में है। बुध का प्रवेश भी होगा। आय के साथ खर्चे भी बने रहेंगे। धन की प्राप्ति होगी एवं दोपहर में काम की अधिकता रहेगी। आवश्यक सभी काम दोपहर में करेंगे तो भाग्य का साथ मिलेगा। शाम को उदासी हो सकती है।
क्या करें- शनि जयंती पर गुड़ एवं चने का दान करें।
मिथुन-द्वादश चंद्रमा आरंभ में परेशानी में डाल सकता है। कुछ दिनों बाद से आय में सुधार होगा एवं कार्य में गति आएगी। निर्माण में व्यय हो सकता है। मेहमानों का आगमन होगा एवं कुछ मामुली विवाद भी हो सकते हैं। परिवार में कुछ मांगलिक काम होने की संभावना है।
क्या करें-शनि जयंती पर निर्धन को पूराने वस्त्र अन्नादि का दान करें।
कर्क-एकादश चंद्रमा से आरंभ अच्छा होगा। आगे कुछ तकलीफें आ सकती है। इन दिनों में कार्यों को टालने का प्रयास करें। विवादों से दूर रहें। 15 दिन बाद से स्थितियों में सुधार होगा एवं योजनाएं सफल होंगी। परिवार के साथ किसी आयोजन में शामिल होने का मौका मिलेगा।
क्या करें-शनि जयंती पर गाय को हरा चारा खिलाएं एवं कुत्ते को रोटी दें।
सिंह-पिछले कुछ समय से शनि के ढय्या का असर बढ़ा है। आने वाले दिनों में काम को लेकर विचलित हो सकते हैं। काम पूरा होगा तो वर्चस्व में वृद्धि होगी और धन की आवक भी अच्छी बनी रहेगी। परिवार से वैचारिक मतभेद समाप्त होगा।
क्या करें-शनि जयंती पर पक्षियों को दाने डालें एवं किसी बुजुर्ग की मदद करें।
कन्या- नवम चंद्रमा रहेगा जो सभी प्रकार से हितकारी रहने की संभावना है। योजनाएं सफल होंगी एवं संतान की चिंता समाप्त होगी। माता से सुख प्राप्त होगा एवं भाई भी सहयोग प्रदान करेंगे। दोस्तों के साथ भ्रमण पर जाने का मौका मिलेगा।
क्या करें-शनि जयंती पर निर्धन को सत्तु का या चावल का दान करें।
तुला- बुध की दृष्टि समाप्त होगी एवं अष्टम चंद्रमा रहेगा। आरंभ में कठिनाई आ सकती है। आपकी निंदा हो सकती है। आय कमजोर होगी एवं अज्ञात चिंता हो सकती है। बुधवार से स्थितियों में सुधार होगा। व्यर्थ खर्चों में कमी आएगी।
क्या करें-शनि जयंती पर निर्धन को खाने की वस्तुएं एवं फल का दान करें।
वृश्चिक- शनि-मंगल दोनों राशि में वक्री हैं। चंद्र की दृष्टि से राहत प्राप्त होगी। आय अच्छी रहेगी एवं बाधाएं समाप्त होंगी। नए काम प्राप्त होंगे। पड़ोसी से विवाद हो सकता है, इसके अलावा अन्य कोई परेशानी आने की संभावना नहीं है।
क्या करें-शनि जयंती पर निर्धन को अन्न एवं परिंदों को जल की व्यवस्था करें।
धनु- षष्ठम चंदमा से सामान्य समय रहेगा। मन में उदासी रहेगी एवं कुछ करने का मन नहीं होगा। निकट भविष्य में शानदार समय का आरंभ होगा। हर ओर से सहयोग प्राप्त होगा एवं आय भी बेहतर रहेगी।
क्या करें-शनि जयंती पर किसी असहाय बुजुर्ग की मदद करें एवं अन्नदान करें।
मकर- राशि स्वामी शनि की दृष्टि से अज्ञात चिंता रहेंगी, किंतु आय अच्छी रहेगी। परिवार से सुख मिलेगा एवं नए काम की प्राप्ति होगी। विवादित मामलों मे जीत होगी एवंं प्रसन्नता प्राप्त होने के साथ बड़ा लाभ मिलने की संभावना है।
क्या करें-शनि जयंती पर पशुओं के पानी, हरी घास एवं अन्न का दान करें।
कुंभ-चतुर्थ चंद्रमा से आय में कमी आ सकती है एवं क्रोध की अधिकता रहेगी। कुछ दिन बाद सब ठीक होने लगेगा। संतान से सुख प्राप्त होगा एवं नई जिम्मेदारी प्राप्त होने के योग हैं। भाग्य का साथ मिलेगा। धार्मिक यात्रा का योग है।
क्या करें-शनि जयंती पर निर्धन को मिष्ठान्न का दान करें।
मीन- परिवार से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। खर्च की अधिकता रहेगी। कुछ दिन बाद हालात में सुधार होगा एवं संतान से सहयोग प्राप्त होगा। कार्य की अधिकता होगी। उत्सवों में शामिल होने का मौका मिलेगा।
क्या करें- शनि जयंती पर निर्धन को फल एवं रस का दान करें।
Shani Jayanti 2016 & Zodiac sign/Rashi In Hindi, shani jayanti & yog in hindi, effects of shani mahadasha, effects of shani sade sati, shani in kundli

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...